Home Food & Health टाइप-1 डायबिटीज को नयी इम्यूनोथेरेपी से टाला जा सकता है

टाइप-1 डायबिटीज को नयी इम्यूनोथेरेपी से टाला जा सकता है

इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में छपे अध्ययन में हुआ दावा 

एआइ तकनीक के उपयोग से 105 बीमारियों की पहचान

वैज्ञानिकों ने विकसित किया एक नया आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआइ) सिस्टम 

वैज्ञानिकों को डायबिटीज की रोकथाम में बड़ी कामयाबी मिली है। उनका कहना है कि इम्यूनोथेरेपी से टाइप-1 डायबिटीज को दो साल या इससे ज्यादा समय के लिए टाला जा सकता है। इम्यूनोथेरेपी वह प्रक्रिया है जिसमें इम्यून सिस्टम (प्रतिरक्षा तंत्र) को सक्रिय या बाधित कर किसी बीमारी का इलाज किया जाता है।

इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में छपे अध्ययन के अनुसार, इम्यूनोथेरेपी उन लोगों में टाइप-1 डायबिटीज की वृद्धि को धीमा करने में प्रभावी पाई गई जिनमें इस बीमारी का सबसे ज्यादा जोखिम पाया गया। यह निष्कर्ष टाइप-1 डायबिटीज से पीड़ित लोगों के आठ से 49 साल की उम्र के 76 रिश्तेदारों पर किए गए अध्ययन के आधार पर निकाला गया है। अंतरराष्ट्रीय संगठन टाइप-1 डायबिटीज ट्रायलनेट ने अपने अध्ययन में एंटी-सीडी3 मोनोक्लोनल एंटीबाडी (टेपलिजुमाब) नामक दवा को लेकर परीक्षण किया। इस अध्ययन की प्रमुख शोधकर्ता लीसा स्पेन ने कहा, ‘हमें यह पहला साक्ष्य देखने को मिला है कि प्रारंभिक उपचार से टाइप-1 डायबिटीज में देरी की जा सकती है।’ (एएनआइ)

दुर्लभ बीमारियों का पता लगाएगा एआइ सिस्टम

वैज्ञानिकों ने एक नया आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआइ) सिस्टम विकसित किया है। यह सिस्टम रोगियों की तस्वीरों के साथ ही उनके आनुवांशिक डाटा के उपयोग से प्रभावी और विश्वसनीय तरीके से दुर्लभ बीमारियों का पता लगा सकता है। पूरी दुनिया में हर साल करीब पांच लाख बच्चे किसी आनुवांशिक बीमारी के साथ पैदा होते हैं। इसकी पहचान करना कठिन और समय खपाने वाला हो सकता है।

जर्मनी की बॉन यूनिवर्सिटी और चैरिट यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने यह साबित किया है कि एआइ तकनीक के उपयोग से इस तरह की बीमारियों की पहचान हो सकती है। यह निष्कर्ष मेबरी सिंड्रोम और म्यूकोपॉलीसेक्करिडोसिस (एमपीएस) समेत 105 दुर्लभ रोगों से पीड़ित 679 रोगियों पर किए गए एक अध्ययन के आधार पर निकाला गया है।

एमपीएस के चलते पीड़ितों को हड्डियों और सीखने की परेशानी होती है। उनका कद भी छोटा होता है। जबकि मेबरी सिंड्रोम पीड़ितों में बौद्धिक अक्षमता की समस्या होती है। (प्रेट्र)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

उत्तराखंड काडर के IAS अधिकारी डॉ. राकेश कुमार विश्व के दस श्रेष्ठ अधिकारियों में हुए शुमार

लंदन स्कूल ने चुना आईएएस  डॉ. राकेश कुमार को विशिष्ट प्रशिक्षण के लिए  विशिष्ट प्रशिक्षण के लिए चुना जाना उत्तराखंड के लिए सम्मान की बात...

केसर के उत्पादन के अनुकूल है उत्तराखंड के पर्वतीय इलाकों की जलवायु …

उत्तराखंड में भी आसानी से हो सकता है केसर एक किलो का दाम एक लाख रुपये से अधिक वर्तमान में अफगानिस्तान, ईरान सहित भारत के कश्मीर...

आसन बैराज पहुंचे सुर्खाब, ग्रे लेग गीज, कारमोरेंट, कामन पोचार्ड प्रजातियों के परिंदे

उत्तराखंड के भीमगोड़ा और आसन बैराज में शुरू हो गयी विदेशी पक्षियों की कलरव देहरादून : देश के पहले कंजरवेशन रिजर्व आसन वेटलैंड में...

कश्मीर के हर चेहरे पर नज़र आ रहे हैं निश्चिंतता के भाव

आतंकी खौफ कुछ हद तक है पर जल्दी ही आमजन मजबूती से खड़े हैं इसके खिलाफ डल झील में हाऊसबोट व शिकारा वाले उदास तो...

अभिमन्यु क्रिकेट एकेडमी मालिक ईश्वरन के घर में लूट का पुलिस ने किया पर्दाफाश

बीएसएफ से बर्खास्त अधिकारी समेत पांच डकैत गिरफ्तार एक करोड़ 31 लाख रुपये कैश मिले थे लेकिन किसी ने नहीं लिखाई रिपोर्ट  क्राइम ब्यूरो  पुलिस ने  आरोपियों के...