Home Strategy बेनामी सम्पत्तियों को क़ानून बनाकर किया जायेगा ज़ब्त : मुख्यमंत्री रावत

बेनामी सम्पत्तियों को क़ानून बनाकर किया जायेगा ज़ब्त : मुख्यमंत्री रावत

  • मुख्यमंत्री ने एक कार्यक्रम में की घोषणा

  • जब्त कर जनहित में किया जाएगा उपयोग

देवभूमि मीडिया ब्यूरो

देहरादून । राज्य सरकार जल्द ही बेनामी संपत्ति का कानून लाएगी। बेनामी सम्पति को जब्त करने के लिए कठोर कानून बनाया जायेगा ताकि प्रदेश में कोई भी भ्रष्टाचारी पनप न सके। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने रविवार को बालावाला स्थित एक स्थानीय फार्म में आयोजित कार्यक्रम में यह बात कही।

बेनामी सम्पत्ति पर बनेगा कानून

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में जल्दी ही बेनामी सम्पत्ति पर कानून लाकर सभी बेनामी सम्पत्तियों को जब्त किया जाएगा। जब्त बेनामी सम्पत्ति का उपयोग स्कूल, अस्पताल आदि जनहित कार्यों में किया जाएगा।

गौरतलब है कि वर्ष 2006 में केंद्र सरकार ने बेनामी लेनदेन (निषेध) संशोधन एक्ट बनाया था जिसके द्वारा बेनामी लेनदेन एक्ट, 1988 में संशोधन कर इसे और मजबूत बनाया गया। एक्ट के तहत बेनामी लेनदेन पर रोक है और बेनामी संपत्तियों को जब्त किया जा सकता है।

भ्रष्टाचार के खिलाफ सबको मिलकर लड़ना होगा

मुख्यमंत्री ने कहा कि भ्रष्ट्राचार के विरूद्ध हम सब को धर्मयुद्ध की तरह लड़ना होगा। किसी भ्रष्टाचारी को बर्दाश्त नही किया जाएगा चाहे वह कोई भी हो। हमने हमेशा प्रयत्न किया है कि हमारी सरकार अपनी संस्कृति को बढ़ाने वाली, विकास के लिए काम करने वाली तथा भ्रष्ट्राचार मुक्त सरकार हो। आज इस दिशा में हम काफी मजबूती से कार्य कर रहे है, आज हम पूर्ण विश्वास से यह कह सकते हैं कि हमारी सरकार पूर्ण भ्रष्ट्राचार मुक्त है। हमने भ्रष्ट्राचार को मिटाने हेतु कई कदम उठाये हैं। भ्रष्ट्राचारियों के विरूद्ध कार्यवाही की गई है। हमने संकल्प लिया है कि हम हर क्षेत्र में भेदभाव रहित तथा भ्रष्ट्राचार मुक्त विकास करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने अनेक प्रोजेक्ट के रिवाईज एस्टीमेट बनवाकर करोङो रूपए बचाए।

डेस्टिनेशन उत्तराखंड के 10 माह में 16 हजार करोड़ का निवेश

मुख्यमंत्री ने कहा कि डेस्टिनेशन उत्तराखंड के मात्र 10 माह में 16 हजार करोड़ रूपए का निवेश आ चुका है। इससे 40 हजार युवाओं को रोजगार मिलेगा। राज्य बनने के 17 साल मे 40 हजार करोड़ का निवेश हुआ।वह भी तब जबकि औद्योगिक पैकेज में टैक्स छूट सहित तमाम तरह की सहूलियत दी गई। जबकि हमारी सरकार ने पहली बार डेस्टिनेशन उत्तराखंड का आयोजन किया। नई नीतियां बनाई गई। इसका परिणाम यह हुआ कि केवल 10 माह में 16 हजार करोड़ का निवेश आ चुका है।

दो वर्षों में राज्य सरकार ने विकास के लिए कई अहम फैसले

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि विगत दो वर्षों में राज्य सरकार ने प्रदेश के विकास के लिए कई अहम फैसले लिये हैं जिनमें स्वास्थ्य, पलायन, रोजगार, पेयजल आदि क्षेत्रों पर विशेष बल दिया गया है। उन्होंने कहा कि डोईवाला विधान सभा क्षेत्र में हमने अल्प समय में ही सीपैट, कोस्ट गार्ड भर्ती सेण्टर, हर्रावाला में जच्चा-बच्चा ,कैंसर मल्टीस्पेशिलिटी अस्पताल का शिलान्यास किया है जिसका आने वाले समय में पूरे प्रदेश को लाभ मिलेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

उत्तराखंड काडर के IAS अधिकारी डॉ. राकेश कुमार विश्व के दस श्रेष्ठ अधिकारियों में हुए शुमार

लंदन स्कूल ने चुना आईएएस  डॉ. राकेश कुमार को विशिष्ट प्रशिक्षण के लिए  विशिष्ट प्रशिक्षण के लिए चुना जाना उत्तराखंड के लिए सम्मान की बात...

केसर के उत्पादन के अनुकूल है उत्तराखंड के पर्वतीय इलाकों की जलवायु …

उत्तराखंड में भी आसानी से हो सकता है केसर एक किलो का दाम एक लाख रुपये से अधिक वर्तमान में अफगानिस्तान, ईरान सहित भारत के कश्मीर...

आसन बैराज पहुंचे सुर्खाब, ग्रे लेग गीज, कारमोरेंट, कामन पोचार्ड प्रजातियों के परिंदे

उत्तराखंड के भीमगोड़ा और आसन बैराज में शुरू हो गयी विदेशी पक्षियों की कलरव देहरादून : देश के पहले कंजरवेशन रिजर्व आसन वेटलैंड में...

कश्मीर के हर चेहरे पर नज़र आ रहे हैं निश्चिंतता के भाव

आतंकी खौफ कुछ हद तक है पर जल्दी ही आमजन मजबूती से खड़े हैं इसके खिलाफ डल झील में हाऊसबोट व शिकारा वाले उदास तो...

अभिमन्यु क्रिकेट एकेडमी मालिक ईश्वरन के घर में लूट का पुलिस ने किया पर्दाफाश

बीएसएफ से बर्खास्त अधिकारी समेत पांच डकैत गिरफ्तार एक करोड़ 31 लाख रुपये कैश मिले थे लेकिन किसी ने नहीं लिखाई रिपोर्ट  क्राइम ब्यूरो  पुलिस ने  आरोपियों के...