Home National नया झूला पुल पुराने लक्ष्मण झूला पुल के पास बनेगा

नया झूला पुल पुराने लक्ष्मण झूला पुल के पास बनेगा

2021 में होने वाले कुंभ से पहले बनाने का रखा गया है  लक्ष्य 

धरोहर बनेगा लक्ष्मण झूला पुल

बंद किए गए लक्ष्मण झूला पुल को धरोहर के रूप में संजोया जाएगा। अपर मुख्य सचिव के मुताबिक लक्ष्मण झूला पुल पर रेट्रोफिटिंग का कार्य कराते हुए इसे पर्यटन की दृष्टि से धरोहर के रूप में उपयोग में लाया जाएगा।

देहरादून: ऋषिकेश से महज पांच किमी दूर गंगा नदी पर स्थित लक्ष्मण झूला पुल के नजदीक वैकल्पिक पैदल झूला पुल के निर्माण के लिए सरकार ने कवायद शुरू कर दी है। 150 मीटर लंबे इस नए झूला पुल के लिए प्रथम चरण में 3.03 करोड़ की प्रशासकीय, वित्तीय व व्यय की स्वीकृति दी गई है। शासन ने चालू वित्तीय वर्ष के लिए 10 हजार की टोकन राशि भी जारी कर दी है। नए झूला पुल का निर्माण 2021 में होने वाले कुंभ से पहले कराने का लक्ष्य रखा गया है।

गौतरतलब हो कि ब्रिटिशकाल में करीब 90 साल पहले बने लक्ष्मण झूला पुल की जर्जर स्थिति के मद्देनजर सुरक्षा के लिहाज से शासन ने 12 जुलाई को इसे बंद करने के आदेश जारी किए थे। डिजाइन ट्रैक स्ट्रक्चरल कंसलटेंट की निरीक्षण रिपोर्ट में झूला पुल की जीर्ण-शीर्ण स्थिति को देखते हुए इसे यातायात के लिए असुरक्षित करार दिए जाने के बाद यह कदम उठाया गया। हालांकि, कांवड़ यात्र से ठीक पहले शासन के इस फैसले को लेकर विरोध भी हुआ, मगर बाद में झूलापुल पर आवाजाही प्रतिबंधित कर दी गई।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भरोसा दिलाया था कि लक्ष्मण झूला पुल के पास ही जल्द नए वैकल्पिक झूला पुल का निर्माण कराया जाएगा। अब इस कड़ी में सरकार ने कदम आगे बढ़ा दिए हैं। नए झूला पुल के प्रथम चरण के 3.03 करोड़ के प्रस्ताव को शासन ने परीक्षण के उपरांत हरी झंडी दे दी। इसकी प्रशासकीय, वित्तीय एवं व्यय की स्वीकृति जारी की गई है। अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री ओमप्रकाश ने बताया कि लक्ष्मण झूला के पास नए पैदल झूला पुल के लिए लोनिवि अधिकारियों से साइट सलेक्शन कराया गया। इसमें लक्ष्मण झूला पुल के अपर स्ट्रीम साइड में नए पुल के निर्माण को उपयुक्त पाया गया। अपर मुख्य सचिव के अनुसार नए झूला पुल के निर्माण से प्रथम चरण के प्रक्रियात्मक कार्यों भूमि एवं स्ट्रक्चर का प्रतिकर, यूटिलिटी शिफ्टिंग, विस्तृत सर्वेक्षण, डिजाइन-ड्राइंग जैसे कार्यों के लिए आगणन का गठन किया गया। इन कार्यों के लिए स्वीकृति दी गई है। प्रथम चरण के कार्य पूर्ण होने के बाद झूल पुल निर्माण से संबंधित विस्तृत आगणन (डीपीआर) तैयार होगी, जिसे शासन स्वीकृत करेगा। उन्होंने बताया कि नए झूला पुल का निर्माण कुंभ मेले से पहले कराया जाना प्रस्तावित है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

उत्तराखंड काडर के IAS अधिकारी डॉ. राकेश कुमार विश्व के दस श्रेष्ठ अधिकारियों में हुए शुमार

लंदन स्कूल ने चुना आईएएस  डॉ. राकेश कुमार को विशिष्ट प्रशिक्षण के लिए  विशिष्ट प्रशिक्षण के लिए चुना जाना उत्तराखंड के लिए सम्मान की बात...

केसर के उत्पादन के अनुकूल है उत्तराखंड के पर्वतीय इलाकों की जलवायु …

उत्तराखंड में भी आसानी से हो सकता है केसर एक किलो का दाम एक लाख रुपये से अधिक वर्तमान में अफगानिस्तान, ईरान सहित भारत के कश्मीर...

आसन बैराज पहुंचे सुर्खाब, ग्रे लेग गीज, कारमोरेंट, कामन पोचार्ड प्रजातियों के परिंदे

उत्तराखंड के भीमगोड़ा और आसन बैराज में शुरू हो गयी विदेशी पक्षियों की कलरव देहरादून : देश के पहले कंजरवेशन रिजर्व आसन वेटलैंड में...

कश्मीर के हर चेहरे पर नज़र आ रहे हैं निश्चिंतता के भाव

आतंकी खौफ कुछ हद तक है पर जल्दी ही आमजन मजबूती से खड़े हैं इसके खिलाफ डल झील में हाऊसबोट व शिकारा वाले उदास तो...

अभिमन्यु क्रिकेट एकेडमी मालिक ईश्वरन के घर में लूट का पुलिस ने किया पर्दाफाश

बीएसएफ से बर्खास्त अधिकारी समेत पांच डकैत गिरफ्तार एक करोड़ 31 लाख रुपये कैश मिले थे लेकिन किसी ने नहीं लिखाई रिपोर्ट  क्राइम ब्यूरो  पुलिस ने  आरोपियों के...