Home जीवों की चार प्रजातियों सहित वनस्पतियों की 18 प्रजातियां विलुप्त

जीवों की चार प्रजातियों सहित वनस्पतियों की 18 प्रजातियां विलुप्त

वाइल्डलाइफ सर्वे का दावा : भारत में वन्यजीवों की 22 प्रजातियां हुई धीरे-धीरे विलुप्त

हिमालयी बटेर (Ophrysia supercililios) की 1876 तक तो थी उसके बाद हुई विलुप्त 

नई दिल्ली : दुनिया की सभी वनस्पतियों की 11.5 फीसदी भारत में पाई जाती हैं। जीवों की चार प्रजातियां और वनस्पतियों की 18 प्रजातियां भारत से विलुप्त हो चुकी हैं। यह कहना है बॉटनिकल सर्वे ऑफ इंडिया (BSI) के निदेशक ए.ए. माओ का। उन्होंने बताया कि इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजर्वेशन ऑफ नेचर IUCN की नई स्टडी में पता चला है कि वर्ष 1750 के बाद से पक्षियों, स्तनधारियों और उभयचरों की तुलना में दोगुने से अधिक पौधे गायब हो चुके हैं।

वाइल्डलाइफ सर्वे ऑर्गनाइजेशन के मुताबिक, भारत से कई जानवर और पेड़-पौधों की प्रजातियां विलुप्त हो चुकी हैं। इसके लिए पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने कई वजहों को जिम्मेदार बताया है। इसमें 1750 से लेकर साल 1876 तक के आंकड़े दिए गए हैं। जीवों की चार प्रजातियां और वनस्पतियों की 18 प्रजातियां पिछले कई वर्षों में भारत से विलुप्त हो चुकी हैं। बीते लोकसभा सत्र के दौरान मंत्रालय की ओर से ये मुद्दा भी उठाया गया था।

बॉटनिकल सर्वे ऑफ इंडिया (BSI) के निदेशक ए.ए. माओ ने कहा कि भारत दुनिया में सभी वनस्पतियों के 11।5% का घर है। इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजर्वेशन ऑफ नेचर की नई स्टडी में पता चला है कि 1750 के बाद से पक्षियों, स्तनधारियों और उभयचरों की तुलना में दोगुने से अधिक पौधे गायब हो चुके हैं।

वर्ष 1750 के बाद से पक्षियों, स्तनधारियों और उभयचरों की तुलना में दोगुने से अधिक पौधे गायब हो चुके हैं। प्रतिस्पर्धा, प्राकृतिक चयन, शिकार और निवास स्थान में गिरावट जैसे मानव प्रेरित कारक इन प्रजातियों के विलुप्त होने की कुछ वजहें हैं : एक रिपोर्ट 

BSI के मुताबिक, पौधों की 18 प्रजातियां (जिसमें 4 बिना फूल वाले औऱ 14 फूल वाले) विलुप्त हो चुकी हैं। 1882 में Lastreopsis wattii (लास्ट्रेप्सिस वाट्टी) जॉर्ज वॉट ने मणिपुर में एक फर्न और जीनस ओफीर्रिहिजा (Ophiorrhiza brunonis, Ophiorrhiza caudate and Ophiorrhiza radican ) से तीन प्रजातियां खोजी थीं। वहीं, म्यांमार और बंगाल रीजन में विलियम रोक्सबर्ग द्वारा खोजी गई Corypha taliera Roxb, एक ताड़ की प्रजाति भी विलुप्त बताई गई है।

स्तनधारियों की बात करें तो चीता (Acionyx jubatus) और सुमाट्रान गैंडा (Dicerorhinus sumatrensisi) भारत में विलुप्त माने जाते हैं। 1950 के बाद से गुलाबी सिर वाले बतख (Rhodonessa caryophyllaceai) के विलुप्त होने की आशंका है। हिमालयी बटेर (Ophrysia supercililios) की 1876 तक होने बात सामने आई है।

भारतीय प्राणि सर्वेक्षण के निदेशक कैलाश चंद्र ने कहा कि चार जानवर दुनिया के अन्य हिस्सों में पाए जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि भारत में दुनिया के सभी जीव प्रजातियों का लगभग 6.49% हिस्सा पाया जाता है। वहीं, मंत्रालय का कहना है ‘प्रतिस्पर्धा, प्राकृतिक चयन, शिकार और निवास स्थान में गिरावट जैसे मानव प्रेरित कारक इन प्रजातियों के विलुप्त होने की कुछ वजहें हैं।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

उत्तराखंड काडर के IAS अधिकारी डॉ. राकेश कुमार विश्व के दस श्रेष्ठ अधिकारियों में हुए शुमार

लंदन स्कूल ने चुना आईएएस  डॉ. राकेश कुमार को विशिष्ट प्रशिक्षण के लिए  विशिष्ट प्रशिक्षण के लिए चुना जाना उत्तराखंड के लिए सम्मान की बात...

केसर के उत्पादन के अनुकूल है उत्तराखंड के पर्वतीय इलाकों की जलवायु …

उत्तराखंड में भी आसानी से हो सकता है केसर एक किलो का दाम एक लाख रुपये से अधिक वर्तमान में अफगानिस्तान, ईरान सहित भारत के कश्मीर...

आसन बैराज पहुंचे सुर्खाब, ग्रे लेग गीज, कारमोरेंट, कामन पोचार्ड प्रजातियों के परिंदे

उत्तराखंड के भीमगोड़ा और आसन बैराज में शुरू हो गयी विदेशी पक्षियों की कलरव देहरादून : देश के पहले कंजरवेशन रिजर्व आसन वेटलैंड में...

कश्मीर के हर चेहरे पर नज़र आ रहे हैं निश्चिंतता के भाव

आतंकी खौफ कुछ हद तक है पर जल्दी ही आमजन मजबूती से खड़े हैं इसके खिलाफ डल झील में हाऊसबोट व शिकारा वाले उदास तो...

अभिमन्यु क्रिकेट एकेडमी मालिक ईश्वरन के घर में लूट का पुलिस ने किया पर्दाफाश

बीएसएफ से बर्खास्त अधिकारी समेत पांच डकैत गिरफ्तार एक करोड़ 31 लाख रुपये कैश मिले थे लेकिन किसी ने नहीं लिखाई रिपोर्ट  क्राइम ब्यूरो  पुलिस ने  आरोपियों के...